May 26, 2024

News Solid

सच की हद तक

3 रोज़ा उर्से शेरी व जश्ने दस्तार बंदी का कुल की रस्म के साथ हुआ समापन।

शाहिद अंसारी संवाददाता
Share This News

बहेड़ी। नगर के लाइन पर स्थित खानकाह ए शेरिया व आस्ताना ए ताजुल अश्फिया पर आज कुल शरीफ की रस्म अदायगी के साथ 3 रोज़ा उर्स शेरी व जश्ने दस्तार बंदी का समापन हुआ। बहेड़ी के मोहल्ला लाइन पार में खानकाहे शेरिया पर क़ुतुब ए अकताब अलहाज शाहजी मियां क़ादरी मुजद्दिदी पीलीभीति के जानशीं व सज्जादा मेहबूबुल वासेलीन अलहाज बन्ने मियां क़ादरी व ताजुल अश्फिया अलहाज शाह अच्छे मियां क़ादरी मुजद्दिदी व जानशीन ताजुल अश्फिया का तीन रोज़ा उर्स ए शेरी का आयोजन किया गया।

सालाना तीन रोज़ा उर्से शेरी का आगाज़ जुमेरत 2 नवम्बर को इशा की नमाज़ के बाद जुलूस ए परचम कुशाई से किया गया जिसके बाद खानकाहे शेरिया पर नातिया मुशायरे का आयोजन किया गया जिसमे भारी तादाद में मौजूद जायरीनों ने शायरों के कलम को सुन कर अपनी दाद से नवाज़ा।। वहीं 3 नवम्बर शुक्रवार को उर्स के दूसरे दिन बाद नमाज़ ए जुमा चादरों का जुलूस निकाला गया औऱ इशा की नमाज़ के बाद जलसा ( ताजुल अश्फिया कॉन्फ्रेंस) का आयोजन किया गया जिसमे दूर दराज से आए उलेमाओं ने खिताब कर बुजुर्गाने दीन की तालिमात और उनकी जिंदगी में किए गए उनके कार्यों के बारे में बताया उलेमाओं की तकरीर सुनने के लिए बड़ी तादाद में लोग मौजूद रहे। 4 अगस्त हफ्ते को दिन में 11 बजे अखिरी कुल शरीफ की रस्म अदायेगी से पहले उर्स में आए जायरीनों को बुजुरगाने दीन के तब्बरूकात की जियारत कराई गई उसके बाद कुल शरीफ की रस्म अदा की गई जिसमे मुल्क और मिल्लत के लिए दुआ की गई पूरी दुनिया में अमन ओ आमान के लिए खुसूसी दुआ की गई साथ ही लंगर ए शेरी भी बाटा भी बांटा गया।

उर्स के इस प्रोग्राम की निगरानी मौलाना खालिद मियां व निशात मियां ने की वहीं निजामत की जिम्मेदारी हाफिज अनवार अहमद क़ादरी ने निभाई उर्स के इस मौके पर फ़रीद मियां,, प्यारे मियां, नसीर मियां, मौलाना साबिर मियां , सभासद सलीम चंदा सभासद वाजिद हुसैन अंसारी सभासद मोहम्मद हसन अशफाक हुसैन तस्लीम चौधरी मोहम्मद शोएब आदि लोग उपस्थित रहे


Share This News