April 16, 2024

News Solid

सच की हद तक

नशे की लत में अंधकार में जाता युवा पीढ़ी का भविष्य, बढ़ रहे अपराध, पुलिस प्रशासन मौन।

शाहिद अंसारी संवाददाता 9811333450
Share This News

बहेड़ी/बरेली । नशे का शौक युवाओं में तेजी से बढ़ रहा है जब यह शौक लत में बदलता है तो युवा खुद अपने भविष्य को अंधकार में धकेल देते हैं और अपनी नशे की लत को मिटाने के लिए अपराध तक करने से पीछे नहीं हटते । वहीं नशे की इस लत को लेकर युवाओं के परिजन भी काफी चिंतित रहते हैं लेकिन हाल में स्थानीय प्रशासन और जिला प्रशासन द्वारा नशा करने वाले और नशीले पदार्थों को बेचने वालो के खिलाफ कोई ठोस कार्यवाही नही किए जाने के कारण परिवार बिखरते हुए दिखाई दे रहे हैं वहीं मादक पदार्थ तस्कर लगातार सक्रिय होते जा रहे हैं और पुलिस प्रशासन मौन हो गया है। आपको बता दें केंद्र सरकार और उत्तर प्रदेश की योगी सरकार लगातार युवाओं में बढ़ती नशाखोरी की रोकथाम को लेकर कई अलग अलग तरह के कार्यक्रम चला कर युवाओं को नशे से दूर रहने के लिए जागरूक करने और नशाखोरी को रोकने की तमाम कोशिशें कर रही है जिससे समाज में युवाओं का एक उज्जवल भविष्य हो और युवा अपने रोज़गार सहित देश हित के काम कर नए कीर्तिमान स्थापित कर सके वहीं दूसरी ओर पुलिस प्रशासन के जिम्मेदारों की अनदेखी के चलते युवाओं का भविष्य बर्बाद होता हुआ दिखाई दे रहा है। वहीं दूसरी ओर मादक पदार्थ तस्करो ने भी युवाओं तक नशा पहुंचाने के लिए नव युवकों को मादक पदार्थ तस्करी में धकेल दिया है।

युवाओं का भविष्य एक नशे की पुड़िया और इंजेक्शन के ईर्द गिर्द ही सीमित हुआ नगर व विधानसभा क्षेत्र में स्मैक व अन्य मादक पदार्थ का काला कारोबार करने वाला तस्कर गैंग एक बार फिर सक्रिय हो गया है। इन स्मैक तस्करो की बदौलत स्मैक की लत में पूरी तरह से नशे की गिरफ्त मे आ चुका है युवा। नगर का युवा एक स्मैक की पुड़िया व गांजा और मेडिकल स्टोर पर मिलने वाली प्रतिबंधित दवाओं के आसपास सिमट कर रह गया है। जिसके चलते स्मैक सहित अन्य मादक पदार्थों का गोरख धंधा खूब फल फूल रहा है। वहीं दूसरी ओर पुलिस प्रशासन नशे के कारोबार पर विराम लगाने के बड़े दावे कर रहा है लेकिन कहीं न कहीं प्रभावी कार्यवाही न होने के कारण खुलेआम मादक पदार्थों की खरीद फरोख्त धड़ल्ले से की जा रही है। पुलिस के खुफिया तंत्र से बाहर मादक पदार्थ तस्कर मादक पदार्थ तस्करो के आगे पुलिस प्रशासन का खुफिया तंत्र भी पूरी तरह से पिछड़ता नज़र आ रहा है। हाल ही में कुछ सफेदपोश लोगो का नाम भी इस मादक पदार्थ तस्करी को लेकर सुर्खिया बटोर रहा है। जिसमे एक व्यापारी खूब चर्चा बटोर रहा है।

सवाल उठता है कि जहां आमजन में कई सफेदपोश लोगो के नाम मादक पदार्थ तस्करी को लेकर चर्चा में बने हुए हैं वहीं खुफिया तंत्र इससे कैसे अनजान है? इस नशे की चपेट में आ चुके युवाओं से बातचीत में मालूम हुआ कि नगर के कई इलाके, नूरी नगर , बाज़ार मोहल्ला , महादेवपुरम, झाझुनागर, सकरस, शाहगढ़, माथुर रोड, जैसे अनेकों इलाकों में आसानी से मिल जाती है नशे की पुड़िया और अन्य मादक पदार्थ। पुलिस की लगातार कोशिश के वाबजूद भी पुलिस की गिरफ्त से बाहर हैं तस्कर इसकी एक वजह यह भी है कि तस्करो ने अपना तस्करी का तरीका बदल दिया है।सूत्रों की माने अब तस्कर ढाबों और पेट्रोल पंप के आसपास डील करते हैं अब देखना होगा किस प्रकार पुलिस इन तस्करों पर नकेल लगा पति है।


Share This News