April 16, 2024

News Solid

सच की हद तक

फेसबुक और सोशल मीडिया पर महिला बनकर विदेशी गिफ्ट देने के नाम पर साइबर ठगी करने वाले तीन आरोपी पुलिस की गिरफ्त में

Share This News

उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ साइबर क्राइम थाना में सिधारी थाना अंतर्गत रहने वाले राजेश कुमार ने एक शिकायत की कि उसके साथ एक विदेशी महिला जिसका नाम लूसी चार्लोट ने फेसबुक पर दोस्ती बढ़ाकर 25,000 यूके पाउंड वह अन्य उपहार के नाम पर 18 लाख रुपए के सराय व धोखाधड़ी की गई जिसके आधार पर मुकदमा अपराध संख्या 17/2022 धारा 419 ,420 भारतीय दंड विधान व 66c, 66d आईटी एक्ट के तहत मुकदमा पंजीकृत किया गया जिसकी जांच में साइबर टीम लखनऊ मुख्यालय के आदेश से टीम गठित कर पुलिस अधीक्षक साइबर टीम व आजमगढ़ एसपी के नेतृत्व में तकनीकी संसाधनों का प्रयोग करते हुए विवेचना के माध्यम से कार्रवाई प्रारंभ करते हुए नालंदा नवादा बिहार अंतर राज्ययीय साइबर क्राइम के पांच अभियुक्तों का नाम प्रकाश में आया जिनमें अभियुक्त सौरभ निवासी बारिश लिंगन जिला नवादा बिहार को पूर्व में गिरफ्तार किया गया था वह चार अभियुक्त मौके से फरार हो गए थे वांछित अभियुक्तों की गिरफ्तारी हेतु मुख्यालय लखनऊ से बिहार राज्य जाने की परमिशन प्राप्त कर निरीक्षकों ने 16 साल 2023 को वंचित अंतरराज्यीय साइबर गैंग 3अभियुक्त रितेश जोकि सुंदरपर थाना कतरी सराय दूसरा दिलीप ग्राम मायापुर थाना कतरी सराय जिला नालंदा बिहार ,रोशन जोकि पाकी थाना शेखुपर जिला शेखपुरा को गिरफ्तार करने में कामयाबी मिली एक अन्य आरोपी रीपांशु कुमार जोकि थाना वारिसलीगंज जिला नवादा का ही रहने वाला है मौके से फरार हो गया जिसकी तलाश के लिए भी पुलिस ने अपने टीम गठित कर गिरफ्तारी के लिए दबिश जारी रखी है।

इस पूरे प्रकरण पर जब जांच की गई तो सामने आया कि इसके पहले दीपांशु जोकि केबीसी लॉटरी फ्रॉड कर विदेशी महिला बनकर गिफ्ट व फाइनेंस के नाम पर अपने साथी अभियुक्तों के साथ खेल रहा था फेसबुक पर दोस्ती कर अपने को यूके पाउंड व महंगे गिफ्ट व अधिवक्ता शुल्क कस्टम शुल्क फाइल शुल्क इत्यादि के नाम पर पैसे ऐंठता था इसी क्रम में सिधारी थाना अंतर्गत रहने वाले राजेश के साथ भी ठगी की गई जिसकी लिखित शिकायत पीड़ित ने स्थानीय पुलिस हुआ साइबर क्राइम को की थी जिसमें यह भारी खुलासा साइबर क्राइम और स्थानी पुलिस की टीम द्वारा किया गया इस पूरे घटनाक्रम का खुलासा करते हुए एसपी सिटी आजमगढ़ ने बताया की अंतर राज्य साइबर ठग जोकि विदेशी बनकर लोगों को गुमराह कर उनके पैसे लेकर फरार हो जाते थे उनका यह पर्दाफाश हुआ है साइबर क्राइम और पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है आने वाले समय में ऐसे और भी कई रहस्य इनकी पूछताछ में खुले हैं जो आगे चलकर उन पर भी कार्रवाई की जाएगी और खुलासा किया जाएगा सभी गिरफ्तार अभियुक्तों को न्यायालय के समक्ष पेश कर संबंधित धाराओं में जेल भेजा गया है।


Share This News